LATTEST NEWS

Apr 30, 2016

आईएएस अधिकारी की तीन राज्यों में 800 करोड़ की संपत...





भ्रष्ट अफसरों की काली कमाई का एक और उदाहरण आंध्र प्रदेश में सामने आया है। यहां भ्रष्टाचार निरोधक शाखा की टीम ने ईस्ट गोदावरी जिले के परिवहन उपायुक्त ए. मोहन के कई राज्यों में फैले ठिकानों पर छापेमारी की। अब तक के आकलन में मोहन की 800 करोड़ रुपये की चल-अचल संपत्ति का पता चला है। 
मोहन की संपत्ति कितनी जगहों पर फैली है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि गुरुवार से शुरू तलाशी अभियान दो दिनों से जारी है। एसीबी की डीएसपी ए. रमादेवी के निर्देशन में टीमों ने तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक स्थित ठिकानों पर गुरुवार से तलाशी लेनी शुरू की थी। मोहन को शुक्रवार को गिरफ्तारी के बाद विजयवाड़ा में एसीबी कोर्ट में पेश किया गया। अदालत ने उसकी दो हफ्ते की रिमांड पुलिस को दी है।


बड़ी बेटी के नाम पर आठ बेनामी कंपनियां बनाईं

मोहन ने बड़ी बेटी तेजश्री के नाम पर आठ कंपनियां बनाईं, इन कंपनियों की संपत्तियां ही 100 से 120 करोड़ के बीच है। हाल ही में उसने कर्नाटक के बेल्लारी से रिश्तेदारों के नाम रही करोड़ों की संपत्ति अपने नाम की, जिसकी भनक पुलिस अधिकारियों को लगी।

छापा पड़ते ही मोबाइल बाहर फेंक दिया
मोहन ने पहले तो अपने घर पर एसीबी अधिकारियों को घुसने नहीं दिया और बाद में अपना मोबाइल फोन फेंक दिया। मोहन और उसके रिश्तेदारों के यहां से कीमती आभूषण, हीरे और अन्य पत्थर मिले हैं।

घूसखोरी में स्टाफ को भी नहीं बख्शा
ईस्ट गोदावरी के आरटीओ कार्यालय में उसके करीबियों का कहना है कि काम के बदले घूस लेने में मोहन ने किसी को नहीं बख्शा। वह घूस किसी से साझा भी नहीं करता था। उसने ट्रांसफर-पोस्टिंग से भी काली कमाई की। काकीनाड़ा विधायक वनामाडी वेंकटेश्वर राव ने मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू से उसकी शिकायत भी की थी।

12 बैंक लॉकर अभी खोले जाने बाकी घूसखोर आईएएस के
03 राज्यों के 09 ठिकानों पर एक साथ की गई छापेमारी
03 डीएसपी, 09 सीओ और हर जगह दस इंस्पेक्टरों की टीम ने चलाया अभियान
विजयवाड़ा, अनंतपुर, कडप्पा, बेल्लारी, मेडक, नेल्लोर, प्रकासम और हैदराबाद में फैली संपत्तियां

कुबेर का खजाना
02 किलो सोना
05 किलो चांदी
14 फ्लैट हैदराबाद में
01 बिल्डिग पंजागुट्टा में 
05 मंजिला इमारत जुबली हिल्स में 
50 एकड़ जमीन नेल्लोर, प्रकासम, चित्तूर में

SOURCE - livehindustan

Follow by Email

Google+ Followers

Followers